Home हेल्थ केयर ढीलापन की दवा पतंजलि नाम क्या क्या है?(dhilapan ki dava patanjali)

ढीलापन की दवा पतंजलि नाम क्या क्या है?(dhilapan ki dava patanjali)

1. पतंजलि अश्वशिला कैप्सूल: यह कैप्सुल लिंग के लिए बहुत ही फायदेमंद है ओर इसमे खासकर दो अलग अलग अश्वशिला के पोधों के मिश्रण से अश्वशिला और रॉकी जो की  दोनों ही मर्दो के प्रजनन छमता के लिए बहुत ही उपयोगी है।पतंजलि अश्वशिला कैप्सूल का खुराक कैसे ले: आपको इस कैप्सुल को एक सुबह ओर एक शाम मे दूध के साथ खाना खाने के आधे घंटे के बाद ही लेना चाहिए।

पतंजलि अश्वशिला कैप्सूल के लाभ: (i)अगर आप इस कैप्सुल को लगातार ले रहे है तो आपके लिंग मे रक्त के प्रवाह को बढ़ा देता है। (ii) शुक्राणुओं की संख्या के साथ साथ आपके रक्त मे गुणवत्ता को भी बढ़ा देता है जो की सभी पुरुसो के लिए बहुत ही फायदेमंद है। (iii)अगर आपको शरीर मे बार बार थकान महसूस होता है तो उस स्थिति मे आगर इस कैप्सुल को लेते है तो आपको थकान दूर हो जाता है।

2. पतंजलि सफेद मुस्ली: इस दवाई को बनाने मे भिन्न भिन्न प्रकार के खास जड़ी बूटी के मिश्रण से बनाया गया है ओर इस कैप्सुल को अक्सर लोग इसे साफेद सोना ओर हर्बल वियग्रा के नाम से भी जाना जाता है।

पतंजलि सफेद मुस्ली का खुराक कैसे ले: अक्सर इस दावा को लेने से पहले जो भी आयुर्वेदिक के विशेषज्ञ है वो हमेशा 5 ग्राम या फिर 1 चम्मच सफेद मुस्ली पाउडर को दूध के साथ ही लेने की सलाह देते है।

पतंजलि सफेद मुस्ली के लाभ: (i)आपके लिंग के अंदर रक्त के बहाव को तेज करने मे मदद करता है। (ii)इस कैप्सुल को लेने से शुक्राणुओं की संख्या मे वृद्धि होती है। (iii)आपको किसी भी तरह का शरीर मे थकान महसूस नहीं होता है। (iv)आपके लिंग मे लंबाई के साथ मोटापा मे वृद्धि भी होता है।

3. पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल: इस दावा का निर्माण करने मे कुछ खास प्रकार की दावा जो की विथानिया सोम्निफेरा जड़ ओर ताना से मिलकर बनाया जाता है। ओर आप इसे लगातार लेते है तो आपके शरीर मे मानशिक स्वास्थ्य भी सही रहता है। साथ ही साथ शरीर से नपुंसकता को भी दूर करने मे बहुत मदद मिलता है।

पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल का खुराक कैसे ले: इस कैप्सुल को दो टाइम एक सुबह ओर एक शाम को खाना खाने के बाद दूध के साथ लेना है। साथ ही इसका चूर्ण की मात्रा आप 2 से 5 ग्राम दो टाइम ले सकते है।

पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल के लाभ: (i)आपके लिंग के अंदर रक्त के संचार के प्रवाह को बढ़ने मे मदद करता है। (ii)शरीर मे कमजोरी कभी भी महसूस नहीं होता है। (iii)आपके लिंग को हमेशा मजबूत बनाए रखता है। (iv)शुक्राणुओं की संख्या मे वृद्धि करता है।


4. पतंजलि गोक्षुरादि गुग्गुल: यह दावा जड़ी बूटी के मिश्रण से निर्मित दावा है इस दावा के उपयोग से आपके शरीर मे आपको थकान महसूस नहीं होने देता है।

पतंजलि गोक्षुरादि गूगल का खुराक कैसे ले: इस दावा को आप एक गोली सुबह ओर शाम मे ही दूध के साथ लेना आवश्यक होता है। ओर साथ ही साथ आयर्वेद विशेस्ज्ञ से अनुसार इस दावा को 3 ग्राम से ज्यदा नहीं लेना चाहिए।

पतंजलि गोक्षुरादि गूगल के लाभ: (i)इस दावा को लेने के बाद कभी भी शरीर मे कमजोरी महसूस नहीं होने देता है। (ii) शुक्राणुओं की संख्या मे वृद्धि के साथ ही साथ उसके गुणवत्ता मे बढ़ावा मिलता है।


5. पतंजलि शतावर चूर्ण: यह ढीलापन के लिए एक विशेस प्रकार का दावा है। जिसमे की पोधों की जड़ो से मिलकर निर्माण किया गया है ओर यह आपके शरीर मे मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने मे मदद मिलता है।

पतंजलि शतावर चूर्ण का खुराक कैसे ले: इस दावा को आपको आयुर्वेद परामर्श के अनुसार सुबह ओर शाम 3 से 10 ग्राम तक इस चूर्ण को दूध के साथ या फिर पानी के साथ ले सकते है।

पतंजलि शतावर चूर्ण के लाभ: (i)नपुंसकता को दूर करने मे बहुत ही ज्यदा मदद मिलता है।(ii)शुक्राणुओं की संख्या मे वृद्धि करता है। (iii)लिंग को मजबूत बनाए रखता है। (iv)लिंग के अंदर रक्त के बहाव को तेज करने का कम करता है।


NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here