Advertisement
Homeज्ञान की बातेंनिषेधवाचक वाक्य क्या है? Nishedh Vachak Vakya Kya Hain?

Related Posts

Advertisement

निषेधवाचक वाक्य क्या है? Nishedh Vachak Vakya Kya Hain?

निषेधवाचक वाक्य(nishedh vachak vakya)

जिन वाक्यो से किसी कार्य के निषेध(न होना) का बोध हो तो वैसे वाक्य को हम निषेधवाचक वाक्य कहते है। मतलब जिन वाक्यो के अंदर न,नहीं,मत शब्द का उपयोग हुआ है तो उस वाक्य को हम निषेधवाचक वाक्य कहते है।

उदाहरण:

  • तुम आज काही नहीं जाओगे।
  • सीता घर पर नहीं है।
  • तुम इस जगह पर बैठो तो अच्छा है।
  • यहा से कभी मत जाओ।
  • इस संसार मे सभी लोग सुखी हो।
  • मैंने अभी तक खाना नहीं खाया है।
  • आज सोहन घर नहीं जाएगा।
  • कल वर्षा नहीं हुई थी।
  • कुछ कर्मचारी ईमानदार नहीं होते है।
  • आजकाल के बच्चे नहीं पढ़ रहे है।
  • इस समय महामारी का खतरा टला नहीं है।
  • मै यह कार्य नहीं करूंगा।
  • शिमा आज बाजार नहीं जाएगी।

जाने: विद्युत धारा उत्पन्न करने की युक्ति को कहते हैं?

याद रखे: इन सभी ऊपर के वाक्यो मे कार्य को न होने का बोध हो रहा है। तो ऐसे वाक्यो को देखने से पता चल रहा है की कोई भी कार्य नहीं हो रहा है। तो आप समझ जाए अगर आपको काही पर किसी वाक्य मे जिसमे ,नहीं,मत शब्द का प्रयोग हुआ है तो ये सभी वाक्य निषेधवाचक वाक्य(nishedh vachak vakya) के अंतर्गत आते है।     

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Posts

Advertisement